चीनी ऐप बैन होने के बाद बढ़ी भारतीय ऐप की डिमांड, ShareChat हर घंटे पांच लाख से ज्यादा बार डाउनलोड, 36 घंटे में 1.50 करोड़ बार हुआ डाउनलोड

इस समय शेयरचैट पर 6 करोड़ से ज्यादा मंथली ऐक्टिव यूजर्स हैंशेयरचैट एंड्रायड और iOS दोनों प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है दैनिक भास्करJul 01, 2020, 09:15 PM

मोटोरोला ने लॉन्च किया अपना पहला साउंडबार और होम थिएटर सिस्टम, शुरुआती कीमत 7999 रुपए; फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध
दुनियाभर के रिटेल स्टोर्स बंद करेगी माइक्रोसॉफ्ट, अब डिजिटल प्लेटफार्म पर रहेगा कंपनी का पूरा फोकस
चंद सेकंड में किसी भी 2D इमेज को 3D में कन्वर्ट कर सकेंगे यूजर्स, फेसबुक के शोधकर्ताओं ने तैयार किया नया सिस्टम

  • इस समय शेयरचैट पर 6 करोड़ से ज्यादा मंथली ऐक्टिव यूजर्स हैं
  • शेयरचैट एंड्रायड और iOS दोनों प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 09:15 PM IST

नई दिल्ली. सरकार द्वारा 59 चीनी मोबाइल एप पर प्रतिबंध लगाने के बाद भारतीय ऐप की तेजी से डिमांड बढ़ी है। देसी ऐप शेयरचैट ने डाउनलोड के मामले में सारे रिकॉर्ड तोड़ दिया है। इस ऐप को हर घंटे करीब पांच लाख बार डाउनलोड किया जा रहा है। पिछले 36 घंटों में करीब 1.50 करोड़ यूजर्स इस एप को डाउनलोड कर चुके हैं। बता दें कि शेयरचैट की भारत में चीन के हेलो  और टिकटॉक से टक्कर है।

MyGov India ने कंपनी के साथ की पार्टनरशिप

शेयरचैट ने बताया कि MyGov India ने कंपनी के साथ पार्टनरशिप की है जिससे इस सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से जुड़े 60 मिलियन ऐक्टिव यूजर्स को कनेक्ट किया जा सके। बता दें कि शेयरचैट के प्लेटफॉर्म पर 1 लाख से ज्यादा ऐसे पोस्ट किए गए हैं जिनमें भारत सरकार की तरफ से चाइनीज ऐप्स को बैन करने के फैसले का समर्थन किया गया है।

यह सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म four साल पुराना है

शेयरचैट four साल पुराना सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है। कंपनी के पास मौजूदा समय में 150 मिलियन से ज्यादा रजिस्टर्ड यूजर्स हैं वहीं 6 करोड़ से ज्यादा मंथली ऐक्टिव यूजर्स हैं। मौजूदा समय में यूजर्स रोजाना करीब 25 मिनट इस प्लेटफॉर्म पर बिताते हैं।

यह ऐप एंड्रायड और iOS दोनों प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है

शेयरचैट एंड्रायड और iOS दोनों प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है, जहां से डाउनलोड करके यूजर्स इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। शेयरचैट 15 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है। इनमें हिंदी, मलयालम, गुजराती, मराठी, पंजाबी, तेलगु, तमिल, बंगाली, उड़िया, कन्नड़, आसामीज, हरियाणवी, राजस्थानी, भोजपुरी और उर्दू जैसी भाषाएं शामिल हैं।

.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0